सोमवार, मई 09, 2011

अपराध की नई आभासी दुनिया और इससे जुड़े कानूनी उपाय


ई-, साइबर- और वर्चुअल शब्दों का प्रयोग, पहले से प्रचलन में आ रहे उत्पादों या सेवाओं या अवधारणाओं के कंप्यूटरीकरण या उन्हें कंप्यूटर से करने पर उनका नया नामकरण करने के लिए इन शब्दें का उपसर्ग के रूप में प्रयोग करने के लिए किया जा रहा है, जैसे, हम काग़ज़ पर पत्र लिखते थे और अब कंप्यूटर और इंटरनेट की सहायता से मेल (पत्र आदि) भेज रहे हैं। इसके लिए "ई-" (इलेक्ट्रॉनिक का संक्षेप) का प्रयोग किया जा रहा है। इसी प्रकार ई-कॉमर्स, ई-गवर्नेंस, ई-रिटर्न, ई-टिकट, साइबर कफ़े, साइबर वार, वर्चुअल कीबोर्ड, वर्चुअल क्लास रूम आदि शब्दों का प्रयोग किया जा रहा है। अतः ये तीनों शब्द एक तरह से इलेक्ट्रॉनिक के पर्याय के रूप में इस्तेमाल किए जा रहे हैं। इसी संदर्भ में साइबर शब्द को क्राइम (अपराध) से जोड़ दिया गया है जो इस बात का द्योतक है कि कोई अपराध किया गया हो जिसमें किसी न किसी रूप में कंप्यूटर का उपयोग किया गया हो, जैसे, इलेक्ट्रॉनिक रूप में नग्नता, इलेक्ट्रॉनिक रूप में बच्चों का यौन शोषण, धर्म, जाति, जन्म स्थान, निवास, भाषा आदि के आधार पर दो संप्रदायों में दुश्मनी पैदा करना (ऑन लाइन हेट कम्युनिटी), ईमेल खाते की हैकिंग, महिला के शील चना को भंग करने के विचार से ग़लत नाम से ई-मेल, क्रेडिट कार्ड फ़्रॉड, ऑन लाइन शेयर ट्रेडिंग फ़्रॉड, कर की चोरी और धन शोधन (मनी लांड्रिंग), कॉपी राइट का उल्लंघन (कंप्यूटर सोर्सकोड की चोरी), सॉफ़्टवेयर की चोर बाज़ारी, संगीत सी.डी. की चोर बाज़ारी, ई-मेल घोटाला, फ़िशिंग, नॉरकोटिक ड्रग्स ऐंड साइकोट्रॉपिक सब्सटैंसेज़, वन्य प्राणियों या उनसे संबंधित वस्तुओं की ऑन लाइन बिक्री, देश की सुरक्षा को नुकसान पहुंचाने के विचार से आतंकवादियों द्वारा नेटवर्क का उपयोग व कंप्यूटर के हार्डवेयर का उपयोग, वाइरस हमला, वेबसाइट को विकृत करना आदि। ये वही अपराध हैं जो बराबर होते रहे हैं। अब इन्हें अंजाम देने के लिए कंप्यूटर या सूचना प्रणाली का उपयोग किया जाने लगा है। ऐसे अपराधों से निपटने के लिए भारतीय दंड संहिता (आई.पी.सी.) तथा सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम (आई.टी. ऐक्ट), 2000 के संगत प्रावधानों के विवरण निम्नप्रकार हैं। 

कानून की उन धाराओं का विवरण जो कि साइबर अपराध के संबंध में उपयोग लाई जाती हैं-

क्रमांक
साइबर अपराध
अधिनियम धारा
संक्षिप्त विवरण
1
फ़ेक प्रोफ़ाइल
सू.प्रौ.. की धारा 67 व भा.दं.सं. की धारा 506
सू.प्रौ..-67. Whoever publishes or transmits or causes to be published or transmitted in the electronic form, any material which is lascivious or appeals to the prurient interest or if its effect is such as to tend to deprave and corrupt persons who are likely, having regard to all relevant circumstances, to read, see or hear the matter contained or embodied in it, shall be punished on first conviction with imprisonment of either description for a term which may extend to two years and with fine which may extend to five lakh rupees and in the event of second or subsequent conviction with imprisonment of either description for a term which may extend to five years and also with fine which may extend to ten lakh rupees.
सू.प्रौ..-67 ए में इलेक्ट्रॉनिक रूप में नग्नता के लिए दंड का उल्लेख किया गया है।
सू.प्रौ..-67 बी में पहली बार सरकार ने बाल नग्नता को लेकर एक नया सेक्शन 67बी का उल्लेख ऐक्ट में किया है। इसका उद्देश्य इलेक्ट्रॉनिक रूप में बच्चों के बीच नग्नता के प्रचार-प्रसार को रोकना व इलेक्ट्रॉनिक रूप में बच्चों के यौन शोषण में लगे लोगों को सज़ा दिलाना है। नग्नता को लेकर उल्लिखित दोनों ही सेक्शन में पहली बार पकड़े गए व्यक्ति को पांच साल की सज़ा का प्रावधान है, जबकि दूसरी बार या अगली बार यह सज़ा सात साल तक की हो सकती है।
भा.दं.सं.-506 आपराधिक धमकी देना।
2
ऑन लाइन हेट कम्युनिटी
भा.दं.सं. की धारा-153 ए, 153 बी
भा.दं.सं.-153 ए, धर्म, जाति, जन्म स्थान, निवास, भाषा आदि के आधार पर दो संप्रदायों में दुश्मनी पैदा करना।
भा.दं.सं.-153 बी, राष्ट्रीय एकता को भंग करने के विचार से बोलना या लिखना।
3
बदनाम करने के विचार से
भा.दं.सं.-500
भा.दं.सं.-500, किसी को बदनाम करने के विचार से कुछ लिखना, प्रकाशित करना या वेब साइट पर लिखना।
4
ईमेल खाते की हैकिंग
सू.प्रौ.. की धारा 43,66 व भा.दं.सं. की धारा 484, 509
सू.प्रौ..-43, कंप्यूटर या कंप्यूटर प्रणाली को नुकसान पहुंचाने के लिए पासवर्ड की चोरी करना और वाइरस भेजना।
सू.प्रौ..-66, कंप्यूटर सिस्टम को हैक करना।
भा.दं.सं.-484, पहचान की चोरी और दुरुपयोग। 
भा.दं.सं.-509, महिला के शील को भंग करने के विचार से ग़लत नाम से ई-मेल।
5
क्रेडिट कार्ड फ़्रॉड
सू.प्रौ.. की धारा 43,66 व भा.दं.सं. की धारा 420,
सू.प्रौ..-43, 66 – उपर्युक्त
भा.दं.सं.-420, धोखोधड़ी, बेईमानी
6
ऑन लाइन शेयर ट्रेडिंग फ़्रॉड
सू.प्रौ.. की धारा 43,66 व भा.दं.सं. की धारा 420, 426
सू.प्रौ..-43, 66 – उपर्युक्त
भा.दं.सं.-420, धोखोधड़ी, बेईमानी
भा.दं.सं.-426, रिष्टि (मिश्चीफ़)
7
कर की चोरी और धन शोधन


8
कॉपी राइट का उल्लंघन
सू.प्रौ.. की धारा 43, 65, 66
कॉपी राइट अधिनियम की धारा 63
सू.प्रौ..-43, 66 – उपर्युक्त
सू.प्रौ..- 65, कंप्यूटर सोर्स कोड की चोरी
कॉ.रा..-63, कॉपी राइट का उल्लंघन
9
गोपनीय जानकारी की चोरी
सू.प्रौ.. की धारा 43, 66
भा.दं.सं. की धारा 426
सू.प्रौ..-43, 66 – उपर्युक्त
भा.दं.सं.-426, रिष्टि (मिश्चीफ़)
10
सॉफ़्टवेयर की चोर बाज़ारी
सू.प्रौ..-43, 66
कॉ.रा..-63
सू.प्रौ..-43, 66 – उपर्युक्त
कॉ.रा..-63, कॉपी राइट का उल्लंघन
11
संगीत सी.डी. की चोर बाज़ारी
सू.प्रौ..-43, 66
कॉ.रा..-63
सू.प्रौ..-43, 66 – उपर्युक्त
कॉ.रा..-63, कॉपी राइट का उल्लंघन
12
ईमेल घोटाला
भा.दं.सं. की धारा 420
भा.दं.सं.-420, धोखोधड़ी, बेइमानी
13
फ़िशिंग
सू.प्रौ.. की धारा 43, 66
भा.दं.सं. की धारा 419. 420, 468
सू.प्रौ..-43, 66 – उपर्युक्त
भा.दं.सं.-419 प्रतिरूपण,
भा.दं.सं.-420, धोखोधड़ी, बेईमानी
भा.दं.सं.-468 छल करना (चीटिंग)
14
साइबर नग्नता
सू.प्रौ.. की धारा 67,
सू.प्रौ..-66 – उपर्युक्त

15
अवैध वस्तुओं की ऑन लाइन बिक्री
नॉरकोटिक ड्रग्स ऐंड साइकोट्रॉपिक सब्सटैंसेज़ ऐक्ट, ऑर्म्स ऐक्ट, भा.दं.सं., वन्य प्राणियों के संरक्षण से संबंधित अधिनियम व कानून
नॉरकोटिक ड्रग्स ऐंड साइकोट्रॉपिक सब्सटैंसेज़ (PSYCHOTROPIC SUBSTANCES) ऐक्ट, ऑर्म्स ऐक्ट, भा.दं.सं., वन्य प्राणियों के संरक्षण से संबंधित अधिनियम व कानून
16
आतंकवादियों द्वारा नेटवर्क का उपयोग व कंप्यूटर के हार्डवेयर का उपयोग
परंपरागत अधिनियमों व कानूनों का उपयोग
भा.दं.सं. व टेररिस्ट, इटरनल सिक्योरिटी ऐक्ट आदि का उपयोग
17
वाइरस हमला
सू.प्रौ..-43, 66 व भा.दं.सं.-426,
सू.प्रौ..-43, 66 – उपर्युक्त
भा.दं.सं.-426, रिष्टि (मिश्चीफ़)
18
वेबसाइट को विकृत करना
सू.प्रौ..-43, 66, कुछ मामलों में सू.प्रौ.. की धारा 67, 70 का भी उपयोग
सू.प्रौ..-43, 66, 67 – उपर्युक्त
सू.प्रौ..-70 – सुरक्षित प्रणाली में प्रवेश की कोशिश करना

      
 -डॉ. दलसिंगार यादव


5 टिप्‍पणियां:

  1. इतनी अच्छी जानकारी उपलब्ध करवाने के लिए धन्यवाद।

    श्याम सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत उपयोगी जानकारी उपलब्ध करवाने के लिए धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही काम की जानकारी उपलब्ध कराई है आपने।

    उत्तर देंहटाएं
  4. नमस्कार सर जी
    आप का ब्लाग तो बडे काम का है
    मै भारतीय दण्ड संहिता की सारी धाराओं के बारे में जानना चाहता हूं
    ये मुझे किस ब्लाग पर मिल सकती है अगर आप लिन्क दे सके तो मै आपका आभारी रहूगा

    उत्तर देंहटाएं

क्या रुपए का नया प्रतीक क्षेत्रीयता का परिचायक है?